Saturday, 31 October 2015

मनातील ‘विश्वास’ प्रगतीसाठी कारणीभूत ठरला ! - अनिल यादव

Anil Yadav

जीवन हेच संघर्ष...कौटुंबिक परिस्थिती कितीही बिकट असली, तरी काही तरी बनण्याची इच्छा ज्याच्या मनात असते. त्याच्या प्रवासाचा आलेख मांडताना...    

उत्तर प्रदेशमधील अलाहाबाद येथे अनिल लहानाचा मोठा झाला. पूर्वीपासून  आई-वडीलांचे कौटुंबिक वास्तव्य उत्तर प्रदेशमध्येच असून सामाजिक आणि आर्थिक परिस्थिती बेताचीच होती. वडील औषध निर्मितीच्या खाजगी कंपनीत चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी आणि आई घर सांभाळत. कुटुंबात एक वेळचे जेवण, शैक्षणिक पुस्तकांची अनुपलब्धता, पुरेशा कपड्यांची वानवा अशा परिस्थितीत शून्यापासून सुरुवात करावी लागल्याचे अनिल सांगतो.  अनिलला तीन भाऊ आणि दोन बहिणी आहेत.

अनिलचे लहानपणी  शिक्षण शासकीय आंगणवाडीत झाले. परिस्थिती थोडी सुधारल्यावर पहिले ते आठवीपर्यंतचे शिक्षण खाजगी शाळेत झाले.  आर्थिक स्थिती नाजूक असल्याने अनिलने आठवीत असल्यापासून पहिली ते तिसरीमधील विद्यार्थ्यांच्या सर्व  विषयांची शिकवणी (ट्युशन) घेतली. दहावी आणि बारावीपर्यंतचे  शिक्षण झाल्यानंतर अनिल अलाहाबाद विद्यापीठातून  वाणिज्य शाखेचा  पदवीधर झाला. विद्यापीठातील अभ्यासादरम्यानच त्याने इंग्रजी माध्यमातील विद्यार्थ्यांची शिकवणी घेण्यास सुरवात केली. शिकवणीतील जे उत्पन्न अनिलला मिळायचे. त्याचा कुटुंब, भाऊ-बहिण आणि स्वत:च्या खर्चासाठी उपयोग करत असे. कौटुंबिक परिस्थितीमुळे त्याच्यात घाबरलेपणाचा एक न्यूनगंड तयार  झाला होता.

अनिलला एका व्यक्तीने सांगितले की, ‘अलाहाबाद येथे प्रथम इन्फोटेक फाउंडेशनला संगणक संचारक (कॉम्प्युटर टीचर) पदासाठी इच्छुक उमेदवार पाहिजेत.’ त्यासाठी मुलाखत होणार होती. अनिलने कॉम्प्युटर टीचर पदासाठी मुलाखत देऊन त्याची लेखी परीक्षाही दिली. त्यानंतर  २००४ या वर्षी अनिलची कॉम्प्युटर टीचर म्हणून नियुक्ती करण्यात आली.    

अनिल राहत असलेल्या जवळच्याच शाळेत त्याला शिकवण्याची संधी मिळाली. खाजगी शाळेत शिकवण्याचा पहिला अनुभव  आणि शिक्षणाचा दर्जा पाहून तेथील शाळेच्या व्यवस्थापनाला वाटले की, ‘अनिल विद्यार्थ्यांना शिकवू शकणार नाही.’ अनिलचा कॉम्प्युटर कोर्सही झाला नव्हता. त्यानंतर अनिलने ठरवले की, कॉम्प्युटरचा अभ्यास करायचा.  ‘मी स्वत: अभ्यासासाठी कॉम्प्युटरची पुस्तके आणली. ती वाचून त्याच्या पूर्ण माहितीचा अभ्यास केला. त्याचा सराव करत. त्यानंतर  विद्यार्थ्यांना शिवण्यासाठी जात.’ असा सुरुवातीचा अनुभव  अनिल सांगतो.

अनिलने विद्यार्थ्यांना जीव ओतून शिकवण्यास सुरुवात केली. विद्यार्थ्यांकडून शिक्षकांच्या शिकवण्याविषयी अभिप्राय मागितला जायचा. तो  सकारात्मक  असल्यामुळे अनिलकडे पाहण्याचा शाळा व्यवस्थापनाचा दृष्टीकोन बदलला, असे अनिलला वाटते. कालांतराने कॉम्प्युटरमधील वेगवेगळे सॉफ्टवेअर  शिकून अनिल पारंगत झाला. नोकरी करता-करता अनिलने एम.कॉमपर्यंतचे शिक्षणही पूर्ण केले.       

दिल्ली येथे संस्थेने घेतलेल्या प्रशिक्षणात अनिलचा आत्मविश्वास वाढला. त्याच्या कामाची दखल घेऊन लखनऊला काम करण्यासाठी त्याला विचारणा करण्यात आली.  त्याने क्षणाचाही विलंब न करता होकार दिला. गावातून पहिल्यांदाच बाहेर पडलेला अनिल लखनऊला कामानिमित्त गेला.

अनिलला लखनऊमध्ये कामाची सुरुवात करताना विविध अडचणींचा सामना करावा लागला. ९८ शाळांशी संपर्क साधल्यानंतर ६ शाळांनी ‘कॉम्प्युटर अॅडेड लर्निंग’ कार्यक्रमाला मान्यता दिली. ज्या शाळांशी संपर्क केला, त्याचा अनुभव अनिलला भविष्यकालीन कामासाठी उपयोगी पडला. काम करण्याची पद्धत, लोकांनी नकार दिल्याची कारणे, शाळा मिळवण्यासाठी केलेली धडपड, अपयशाचे चिंतन, इ. बाबी शिकता आल्या. काम केल्यानंतर येणाऱ्या प्रचंड थकव्यामुळे अनिलचे रात्रीचे जेवणही नीट होत नसे. 

अनिलने एवढ्या मोठ्या प्रमाणावर काम कधी केले नव्हते. त्याला बाहेरील कामाचा अनुभव नव्हता. आपले काम काय होते, त्याची पूर्ण कल्पना नव्हती ? शाळा कोणत्या शोधायच्या याची माहिती नाही. शाळेमध्ये समोरच्या व्यक्तीशी काय बोलयाचे याची स्पष्टता नव्हती. वरिष्ठांचा दूरध्वनी आल्यावर त्यांच्या प्रश्नांना योग्य उत्तर देणेही जमत नव्हते. अनिल काम खूप करायचा पण त्याचा ‘निकाल’(आउटपुट) येत नसे. वरिष्ठांना वाटत असे, अनिल काही काम करत नाही. 
सुरुवातीला अशा विविध प्रकारच्या अडचणींना अनिलला सामोरे जावे लागले. अनिलच्या मनात एक ‘विश्वास’ होता की, ‘जर शाळेचे काम त्याने केले तर तो ते पूर्णत्वास नेईल.’  संचारक, केंद्र प्रमुख  आणि  टीम लिडर या तीन पदांपर्यंतच्या प्रवासात अनिलला  नेतृत्व, आत्मविश्वास, व्यवहार कौशल्य  आणि पूर्व अनुमान या बाबी शिकल्या. लोकांना ओळखता यायला लागले, अनुभवी व्यक्तींकडून  वेगवेगळ्या गोष्टी शिकता आल्या आणि स्वत:चा मुद्दा ठामपणे समोरच्या माणसाला पटवून देता येऊ लागल्या.  अनिलने लखनऊला वेगवेगळ्या शाळा शोधून विद्यार्थ्यांची प्रशिक्षणे घेतली. त्या शाळांच्या विकासात अनिलचा ‘खारीचा’ वाटा आहे.

अनिलने मनाशी ठरवले होते की, प्रगती करत स्वत:चा विकास करायचा. कौटुंबिक समस्या असल्या तरीही अनिल  प्रशिक्षणे, मिटींग यांना आवर्जून उपस्थित रहायचा. त्याला  सण-उत्सव, लग्न समारंभ, नातेवाईक,इ. ठिकाणी उपस्थित राहता आले नाही. अनिलच्या आईची तब्येतही बरी नव्हती. अशा परिस्थितीत तो कामात असायचा, घरच्यांशी दूरध्वनीवर संपर्कात रहायचा.

‘प्रथम इन्फोटेक फाउंडेशनमध्ये  स्वातंत्र्य असून तुमच्या कामाला तुम्ही स्वत: जबाबदार आहात. तुम्हाला स्वत:ला ठरवायचे आहे की, काम कसे करायचे आहे.’ असे अनिलला वाटते.  

अनिलची कौटुंबिक परिस्थितीही संघर्षशील आहे. वडिल २००४ ला निवृत्त झाले. त्याच्या मोठ्या  भावाला ब्रेन हॅम्रेज होऊन शरीराची एक बाजू अर्धांगवायूने ग्रस्त झाली आहे. एका बहिणीला मानसिक विकार असून तिच्याही भविष्याची चिंता अनिलला आहे. अनिलचे लग्न झाले असून या सर्व कामांची पूर्वकल्पना त्याने पत्नीला दिली आहे.  संपूर्ण  कुटुंबाची जबाबदारी अनिलवर आहे.


अनुभवाचे शिक्षण घेऊन अनिलला करियर निवडण्यासाठी विविध पर्याय उपलब्ध आहेत. त्याला भविष्यात सरकारी सेवेत काम करण्याची इच्छा आहे.  

Friday, 30 October 2015

हार्डवेयर अभियांत्रिकी बनने की इच्छा है – हेमंत बालकृष्ण माहुलकर

Hemant Mahulkar

जीवन में कंप्यूटर की अहमियत उनसे अच्छा कौन बता सकता है जिन्हें सिर्फ कंप्यूटर की बदौलत कार्य में तरक्की मिली हो. ऐसा ही एक संयोग माहुल रहवासी हेमंत माहुलकर के साथ भी हुआ, वो मुंबई में भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड (बी.पी.सी.एल) में ऑफिस बॉय के तौर पर कार्य करते थे. यहाँ हेमंत की जिम्मेदारियाँ कार्य के दौरान सहयोगियों की हर मुमकिन सहायता करने की थी. शुरुआत में हेमंत को शिफ्ट ड्यूटी करना पड़ता था, ऐसे में समय का सदुपयोग करने की इच्छा और कंप्यूटर के शौक के चलते उन्होंने कंप्यूटर प्रशिक्षण करने का मन बनाया. वो सुबह माहुल स्तिथ केंद्र में कंप्यूटर सीखते थे और शाम को ऑफिस जाया करते थे.

हेमंत ने प्रथम इन्फोटेक फाउंडेशन और रोटरी क्लब द्वारा चलाये जा रहे कंप्यूटर प्रशिक्षण का कोर्स किया है, जहाँ उन्होंने कंप्यूटर की बुनियादी बातें और सॉफ्ट स्किल से जुडी कई बातें सीखीं हैं. जिसका सीधा फायदा उन्हें कार्य में हो रहा है जहाँ वो ऑफिस बॉय का कार्य करते थे अब वो डेटा एंट्री का भी कार्य करतें है. हेमंत बतातें हैं कि “मुझे इस बात का एहसास था की आज के दौर में कंप्यूटर बहुत जरुरी है और इसलिए मैंने यह कोर्स किया. कार्य में तो अंतर दिखाई दे ही रहा है साथ- साथ सैलरी में भी अंतर देखने को मिल रहा है. जब मैं कंप्यूटर के बिना कार्य किया करता था तब अच्छी सैलरी नहीं थी, लेकिन अब सैलरी में काफी अंतर आ गया है. करियर को देखते हुए मैं आने वाले समय में कुछ और भी एडवांस कोर्स करने का मन बना रहा हूँ.”

कंप्यूटर युग को देखते हुए हेमंत बतातें हैं कि आनेवाले समय में सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर की मांग काफी ज्यादा रहेगी जिसके मद्देनजर वो हार्डवेयर अभियांत्रिकी करना चाहतें है. अपने ख्वाबों का पीछा कर रहें हेमंत अपनी कमाई का एक हिस्सा अपनी पढाई के लिए अलग रख रहें हैं ताकि जल्द से जल्द वो किसी अच्छी जगह से यह कोर्स पूरा कर सकें.


जहाँ तक परिवार की बात है, हेमंत के घर में माता- पिता, भाई और दो बहनें है जिनकी संपूर्ण जिम्मेदारी हेमंत और उनके भाई के कन्धों पर है.

Wednesday, 28 October 2015

पत्रकारितेमध्ये करियर करायचे आहे. - संजय पाटील

Sanjay Patil

संजय हा मध्यमवर्गीय कुटुंबातील असून तो आई आणि मोठ्या भावासोबत अंधेरीला राहतो. आई स्वयंपाकाची कामे करत असून भाऊसुद्धा ऑफिसमध्ये कामाला आहे.  संजय साठे महाविद्यालय, विलेपार्ले येथे बॅचलर ऑफ मास मिडियाच्या दुसऱ्या वर्षात शिकत आहे.

कॉम्प्युटरचा अभ्यासक्रम पूर्ण केलेल्या मैत्रिणीने संजयला डिजिटल लिटरसी कोर्सविषयी (डी.एल.सी.) माहिती दिली. डीएलसीमध्ये मायक्रोसॉफ्ट ऑफिस, एक्सेल, पॉवर पॉईंट
, इंटरनेट, इ. अभ्यासक्रम कोर्समध्ये शिकवण्यात आला असून संजयला पॉवर पॉईंट प्रेझेंटेशनमध्ये काम करायला आवडायचे. शिक्षक कोर्समधील अभ्यासक्रम समजावून शिकवत आणि प्रॅक्टीकली करुन दाखवत असत. संजयचा महाराष्ट्र स्टेट सर्टिफिकेट इन इनफॉर्मेशन टेक्नॉलॉजीचा (एम.एस.सी.आय.टी.)  कोर्स झाला होता. तिथे त्यांना इ-लर्निंगच्या माध्यमातून शिकवण्यात आले होते. कोर्समध्ये शिक्षक प्रत्यक्ष स्वरुपात शिकवत असल्यामुळे लवकर समजत असे आणि काही न समजल्यास त्यांना विचारु शकतो. ही कोर्सची उजवी बाजू असल्यामुळे डिजिटल लिटरसी कोर्स आवडला. महाविद्यालयात प्रोजेक्टविषयी  पॉवर पॉईंट प्रेझेंटेशनसाठी संजयला कोर्सची मदत झाली.      


स्वतंत्र सागर साप्ताहिकामध्ये संजय ‘बातमीदार’ आहे.  पत्रकार परिषदेला उपस्थित राहून त्यासंबंधित बातमी लिहिणे, कार्यक्रमासंदर्भातील प्रसिद्धी पत्रक तयार करणे, इ. पत्रकारीतेमधील कामे संजय करतो. ऑफिसमधील कॉम्प्युटरच्या सर्वसाधारण कामांमध्ये  डिजिटल लिटरसी कोर्सचा त्याला वेगवेगळ्या प्रकारे फायदा होतो. संजयला पत्रकारितेमध्ये करियर करायचे असून ‘न्यूज रिपोर्टर’ बनायची इच्छा आहे. 

Tuesday, 27 October 2015

व्यावसायिक कौशल सीखना चाहता हूँ - अमन खान

इनदिनों युवाओं में खुद के बलबूते कुछ कर दिखाने का जज्बा ज्यादा दिखाई देता है. युवाओं से बात करके ऐसा महसूस होता है कि वो कार्य की अपेक्षा छोटा- मोटा व्यवसाय करना चाहतें है, भले ही कम पैसा मिले लेकिन खुद के टर्म्स और कंडीशन बनाना चाहतें है. कुछ इसी तरह की योजना मलाड में रहने वाले अमन खान बना रहें हैं. अमन 12वीं पास हैं और मस्जिद में ऑफिस बॉय का कार्य कर रहें हैं. यहाँ उनकी भूमिका ऑफिस से सम्बंधित हर एक कार्यों को पूरा करने की है. जिसमें पेमेंट लाना, ले जाना, डाक्यूमेंट्स तैयार करना, लोगों की ऑफिस में मदद करना इत्यादि.

अमन को मस्जिद में काम करना पसंद है, जो थोड़ा बहुत पैसा वो यहाँ से कमाते है उसका एक हिस्सा वो घर में देतें है और कुछ हिस्सा बिज़नेस शुरू करने के लिए बचा रहें हैं. वो बतातें है कि “फिलहाल मेरे मन में ट्रेवलिंग बिज़नेस शुरू करने की चाह है, जिसमें शुरूआती दौर में मैं ऑनलाइन रेल, बस और हवाईजहाज की टिकट बुकिंग का कार्य करना चाहता हूँ, अगर सफल रहा तो आने वाले समय में टूर एंड ट्रेवल के बिज़नेस में विस्तार करना चाहूँगा.”


प्रथम इंफोटेक फाउंडेशन और रोटरी क्लब द्वारा चलाये जा रहे कंप्यूटर कोर्स के दौरान सॉफ्ट स्किल का भी प्रशिक्षण दिया जाता है. इसी प्रशिक्षण के आधार पर अमन कहते है कि “मुझे मस्जिद में इसी प्रशिक्षण की वजह से कार्य मिला है, हालांकि अभी मैं कंप्यूटर का उपयोग नहीं करता हूँ लेकिन उन गुणों का इस्तेमाल करता हूँ जो मुझे बताये गए थे. आने वाले समय में व्यावसायिक कौशल भी सीखना चाहता हूँ ताकि ट्रेवलिंग के बिज़नेस में मुझे सफलता मिल सकें.” अमन के परिवार में पिता डिलीवरी बॉय है, माता गृहिणी है और घर में दो बहनें और एक भाई भी है, जो अभी अलग- अलग कक्षाओं में अध्यनरत हैं.

Friday, 23 October 2015

“तो मैं आज कुछ और होता...” - जसबीर सिंह

Jasbir Singh

जो कोई शक्स सादगीपूर्ण जीवन जीने की आस रखता है वो हर परिस्थितियों में खुद को ढाल लेता है, कोई गिला नहीं, कोई शिकवा शिकायत नहीं. 
देश के सबसे बड़े राज्य उत्तरप्रदेश के इलाहाबाद से संबंध रखने वाले जसबीर सिंह की भी यही दास्तान है. बेहद सादगी से भरा इनका जीवन और उतना ही सरल और सीधा उनका परिवार. फिलहाल वे लखनऊ में अपना जीवन यापन कर रहें हैं. घर में माता-पिता के अलावा बहन और उनकी पत्नी भी है. पिता ए. एच. व्हीलर कंपनी में चौथी श्रेणी के मुलाजिम के तौर पर कार्यरत है. ऐसे में पिता ने बेहद नाज़ुक परिस्थितियों से परिवार का पालन पोषण भी किया है और मुमकिन शिक्षण भी मोहैया करवाई है. क्योंकि पिता को मिलने वाला मेहेंताना उतना ज्यादा नहीं होता था इसलिए पिता कार्य के बाद किताबों की छपाई, जिल्दसाजी का कार्य किया करते थे जिससे परिवार को बुनियादी सहूलियतें दी जा सकें.

पढ़ाई करते हुए जसबीर ने इग्नू से दुरस्थ शिक्षण में बी कॉम की पदवी हासिल की है, इसके अलावा उन्होंने कंप्यूटर का बेसिक कोर्स और टैली जैसे सॉफ्टवेर पर महारत हासिल की है. शुरुआत से परिवार की दशा सुधारने की लालसा लिए जसबीर ने कार्य की शुरुआत 9 साल पहले प्रथम एजुकेशन फाउंडेशन से की थी, यहाँ उनका कार्य फोटोकॉपी करने का था. लेकिन जैसे ही उन्होंने कंप्यूटर का कोर्स पूरा किया वैसे ही उन्हें डेटा एंट्री की भूमिका निभाने का मौका मिला. इस बीच उन्होंने जैसे ही टैली का कोर्स पूरा किया वैसे ही उन्हें प्रथम इन्फोटेक फाउंडेशन के साथ बतौर अकाउंटेंट कार्य करने का मौका मिला और आज 7 सालों के अनुभव के साथ जसबीर उत्तरप्रदेश का एकाउंट्स और एडमिनिस्ट्रेशन की जवाबदारी निभा रहें हैं.

उनकी जिम्मेदारियों में उत्तरप्रदेश का कलेक्शन देखना, अगर कहीं से नहीं आया है तो उनसे बात करना, जो भी समस्याए है उन सब का निवारण करना, समय समय पर वाउचर भेजना, बजट भेजना और खर्चों का व्योरा भेजना आदि कार्य के साथ साथ वो हार्डवेयर से संबंधित कार्यों को करता है. इसके अलावा अगर संचारकों की कोई समस्याएं है तो उनको सुलझाना उनकी मदद करना आदि कार्य वो वहां रहतें हुए करतें है. वो बतातें है कि “मुझे प्रथम इन्फोटेक फाउंडेशन के साथ ज्वाइन करते समय ही हार्डवेयर और सॉफ्टवेर के बारे में काफी कुछ सीखने मिला, और वही सब स्किल्स अब में अपने कार्य में इस्तेमाल करता हूँ.”

खैर बहुत पुरानी एक कहावत है कि हर किसी को मुक्कम्मल जहाँ नहीं मिलता वैसा ही कुछ जसबीर के साथ भी हुआ है. जसबीर के परिवार में उनके पिता, उनकी बहन और वो खुद बहुत ही उम्दा खिलाड़ी भी रह चुकें है. जिन्होंने खुद को राष्ट्रीय स्तर पर साबित किया है. लेकिन अच्छे प्रशिक्षण और सुविधाओं के अभाव में आज वो उस जगह नहीं है जहाँ उन्हें होना चाहिए था. वो बतातें है कि “मैं जिमनास्ट में राज्य स्तर का विजेता था, एवं दौड़ में राष्ट्रीय स्तर पर उपविजेता रहा. लेकिन सुविधाओं के अभाव में में आगे नहीं बढ़ पाया वरना आज मैं कुछ और होता. वैसे मेरे पिता भी बैडमिंटन के चैंपियन रह चुकें हैं और बहन 10 सालों तक जिमनास्ट की राष्ट्रीय विजेता रह चुकीं हैं.”


ऐसे में वो चाहतें है कि भले ही वो उन सुविधाओं के न होने से पीछे रह गए हैं लेकिन आने वाले समय में वो खेलों में उभरते हुए खिलाडियों का मार्गदर्शन कर सकें. ऐसे में उन्होंने अपनी बहन को बैचलर ऑफ़ फिजिकल एजुकेशन की पढ़ाई पूरी करवाई है और साथ ही आने वाले समय में वो उन्हें मास्टर्स ऑफ़ फिजिकल एजुकेशन की पढ़ाई करवाना चाहतें है ताकि वो ऐसे बच्चों का मार्गदर्शन कर सकें जो जीवन में खेलों में अपना करियर बनाने की इच्छा रखतें हैं. वहीँ वो बतातें है कि वो अपनी जॉब पर ध्यान केन्द्रित करना चाहतें है क्योंकि घर की सम्पूर्ण जिम्मेदारी अभी उन्ही के कन्धों पर है. आनेवाले समय में अगर उन्हें आगे बढ़ने का मौका या कोई और जवाबदारी मिलती है तो उसे बेशक करना चाहेंगें.

Tuesday, 20 October 2015

कंप्यूटर में असीम सम्भावनायें हैं - राहुल जाधव

Rahul Jadhav

वाणिज्य (कॉमर्स) में ग्रेजुएशन करने वाले राहुल जाधव के परिवार में माता- पिता, भाई और एक बहन है. पिता मिस्त्री का कार्य करते है जो भी कमाई आती है उसे वो घर और बच्चों की पढ़ाई में लगा देते हैं. राहुल को कंप्यूटर का काफी शौक हुआ करता था, उन्हें इस बात का अंदाज़ा था कि बिना कंप्यूटर के किसी भी क्षेत्र में करियर बनाना कठिन है. स्कूल और कॉलेज में कंप्यूटर का ज्ञान जरुर दिया गया था लेकिन वह पर्याप्त नहीं था. ऐसे में जब राहुल ने कंप्यूटर के विभिन्न कोर्स के बारे में पूछताछ की लेकिन फीस काफी ज्यादा होने के कारण दाखिला नहीं ले पाए. उसी वक़्त किसी ने उन्हें प्रथम इन्फोटेक फाउंडेशन और रोटरी द्वारा चलाये जा रहे फ्री कंप्यूटर एजुकेशन की जानकारी दी. जिसके आधार पर राहुल ने एडमिशन लिया और कोर्स को पूरा कर दिखाया.


राहुल बतातें है कि “मुझे कंप्यूटर की बारीकियों का पता इस कोर्स से चला, इस कोर्स में न केवल कंप्यूटर बल्कि अन्य कौशलों की जानकारी भी दी जाती है, जो निजी जीवन और व्यावसायिक जीवन के लिए बहुत ही जरुरी है.” इस कोर्स के ख़तम होने के बाद राहुल आज एयरटेल मोबाइल के साथ कार्य कर रहें है, यहाँ उनका कार्य पोस्टपेड सिम बेचने का है. यह एक टारगेट बेस्ड जॉब है जिसमें प्रतिदिन उन्हें दो ग्राहक कंपनी को देने होते हैं. इसमें ग्राहकों की लिस्ट बनाने का कार्य होता है जिसे वो एक्सेल के मदद से तैयार करतें है. उनका मानना है कि “अभी कंप्यूटर का बहुत बोलबाला है, आने वाले समय में कंप्यूटर में कार्य की असीम सम्भावनायें दिखाई दे रही है. ऐसे में यह कोर्स करना मेरे लिए बहुत फायदेमंद साबित हो सकता है.” आने वाले दिनों में राहुल खुद को किसी अच्छी कम्पनी में कंप्यूटर ऑपरेटर के तौर पर देखना चाहतें है.

Monday, 19 October 2015

“My class is beautiful”- Pratiksha Jadhav

Pratiksha Jadhav

Pratiksha lived in Solapur with her parents and two sisters, where she completed her 1st and 2nd standard in a small school. 
All of a sudden her father lost his job and so decided to go to Pune and look for a better job there. On their way to Pune, tragedy hit them in the face and Pratiksha lost her father as he fell off the running train. “Some say my father jumped out of the train, others say he was pushed out. I don’t know exactly what happened that day”, says a teary eyed Pratiksha.

Her mother was left with no option but to pull herself together and do something to look after her three girls. She works as a nanny now. Somehow she manages to send her elder daughters to college and Pratiksha has joined a school in Pune.

She started from the 3rd standard and lucky for her, that very same year ‘e-education’ was introduced in her school by Pratham InfoTech Foundation. “We were taken to the computer class by our teacher and as I entered I was shocked. My class was so beautiful with paintings of cartoons. It was so colourful. And it had so many machines”, says Pratiksha with sparkling eyes as she recalls her first day in the computer class.

Pratiksha was very excited from day 1, says her teacher and has taken keen interest in learning all that she is taught in class. “Even though the school and her classmates are new to her, she feels at home in the computer class”, says her computer teacher.

When asked about her experience with computers, Pratiksha shares, “I had seen a computer before in some rich person’s house. I thought only rich people are allowed to touch it. But today I am so happy that I too can operate it. I know so much now”.

This is just her first year with e-education and she has already learnt a lot and with great interest. Imagine how much more this little girl can achieve if encouraged and taught well.
Pratiksha wants to be a doctor when she grows up. We wish her success!


Saturday, 17 October 2015

शिक्षक बनण्याचे ध्येय असून यशस्वी होण्याची इच्छा आहे. - शादमा अन्सारी

Shadama Ansari

शादमा लहानाची मोठी मुंबईत झाली. कुटुंबात आई, मोठा भाऊ आणि तीन बहिणी असून तिच्या घरात नोकरीला मोठा भाऊ आणि शादमा आहेत. शादमा पदवीच्या पहिल्या वर्षाला आर्ट्समध्ये (एफ.वाय.बी.ए.) शिकत आहे. 

कॉम्प्युटर कोर्स कमी शुल्कामध्ये उपलब्ध असल्याची माहिती शादमाला मैत्रिणीने दिली. त्यामुळे तिने डिजिटल लिटरसी कोर्सला (डी.एल.सी)  प्रवेश घेतला. कॉम्प्युटरची बेसिक माहिती वर्ड, एक्सेल, पॉवर पॉईंट, इ.क्लासमध्ये शिक्षकांनी समजावून शिकवली.  शिक्षकांची शिकवण्याची पद्धत चांगली असल्यामुळे शिकण्याची आवडही निर्माण झाली. कॉम्प्युटरचा इतिहास आणि टप्पे, उपयोग, महत्व, इ. यांची थिअरी स्वरुपातील माहिती चांगली समजल्यामुळे प्रॅक्टिकली कॉम्प्युटर हाताळताना कोणतीही अडचण आली नाही.  क्लासमध्ये शादमाला एक्सेल महत्वाचे वाटले. शादमा गुणपत्रिका आणि निकाल तयार करणे, बोधचिन्ह (लोगो), इ-मेल, प्रेझंटेशन बनवणे, इंटरनेटचा वापर , इ. कॉम्प्युटर कोर्समध्ये शिकली .तिला  सॉफ्ट स्कीलमध्ये मुलाखत देणे आणि संवाद कौशल्य यांचीही माहिती मिळाली.  शादमाला कॉल सेंटरच्या नोकरीचा दोन वर्षांचा अनुभव आहे.    


ज्या शिक्षकांनी शादमाला डिजिटल लिटरसी कोर्स शिकवला, त्यांनीच तिला नोकरीची संधी दिली. ‘शिक्षक’ बनणे, हे शादमाचे ध्येय आहे. त्यामुळे मुलांना शिकवण्याची पद्धत,  विद्यार्थ्यांची मानसिकता, कॉम्प्युटरची माहिती, विद्यार्थ्यांकडून येणारे प्रश्न, इत्यादींचा अनुभव शादमाला महत्वाचा वाटतो.  तिला व्यक्तिगत जीवन आणि प्रोफेशनल लाईफ यांचे महत्व  नोकरी करताना जाणवले.  शादमा कमी वयात जास्त काम करण्याची इच्छा बाळगत असून लोकांनी तिला कामाच्या माध्यमातून ओळखावे, असे तिला वाटते.   

Friday, 16 October 2015

तकलीफें झेल कर जो मिले वो मुझे पसंद है – शीतल भिसे

Sheetal Bhise

जाहिर सी बात है हम सब की यही सोच होती है कि जीवन में सब कुछ बड़ी आसानी से मिलता रहें, लेकिन अधिकांश हालातों में यह सब कुछ संभव नहीं होता. दरअसल हम जिस खुशहाली का ख्वाब देखतें है वो तकलीफों से जुड़े रास्तों से ही तो निकलती है, ऐसा ही मानना है डेंटिस्ट को असिस्ट कर रहीं शीतल भिसे का. शीतल के घर में 7 लोग हैं, पिता ड्राइविंग करते हुए घर सँभालते हैं. 11वीं तक की पढ़ाई पूरी करने वाली शीतल जीवन में काफी ऊँचाइयों तक जाना चाहती हैं लेकिन परिस्थिति ने उन्हें छोटी उम्र में ही समझदार बना दिया है.

बचपन से टीचिंग में करियर बनाने का सपना देखने वाली शीतल को कंप्यूटर में काफी दिलचस्पी है, और इसी के चलते उन्होंने प्रथम इन्फोटेक फाउंडेशन और रोटरी क्लब द्वारा चलाये जा रहे कंप्यूटर कोर्स को पूरा किया है. उन्हें कंप्यूटर का ज्ञान पहले से था लेकिन वो बताती है की खुद को पोलिश करने के लिए फिर से कंप्यूटर कोर्स किया है. कंप्यूटर में आ रहे निरंतर बदलाव को देखते हुए उन्हें लगता है कि समय समय पर खुद को अपडेट करते रहना चाहिए.


वो बताती है कि “फिलहाल मैं एक डेंटिस्ट के क्लिनिक में कार्य जरुर कर रही हूँ, मुझे पसंद भी आ रहा है. लेकिन मैं टीचर बनना चाहती हूँ, मुझे लगता है की मैं अपनी पढ़ाई पूरी करूँ.” “मुझे पढ़ाई के लिए भी स्ट्रगल करना पड़ा है, क्योंकि घर में थोड़ी सी समस्याए है लेकिन जीवन में जो भी तकलीफें मुझे मिलती है उसे झेल झेल कर जो एक्सपीरियंस मुझे मिल रहा है वो मुझे ज्यादा पसंद है और मजबूत बना रहा है.” 

Thursday, 15 October 2015

Old at age, young at heart – Story of Jayashree Jadhav

Currently working as a maid at a union office in Pune,Jayashree always had the urge to learn something new.... and she did.... all the time!

Jayashree got married when she was in the 10th standard and as a result could not complete her education. But that does not leave her behind. She is one of a kind! Always on the watch for something new and always determined to learn it.

She has 2 grown up children and is also a grandmother to 2. Her husband does not keep well and is on bed most of the time. Somehow they brought up their children. Jayashree’s daughter is a bright student and so she always supported her daughter to study ahead unlike her son who couldn’t complete his studies and now handles the chaat stall that his father looked after earlier. “Sometimes I also help my son at the stall after I get done with my job”, says Jayashree.

Jayashree Jadhav

This woman is so strong willed that once she sets her eyes on something, she accomplishes it. She always watched her daughter use the computer at home and wondered why cant’ I do the same. She did not know English but still wanted to try it. Her daughter encouraged her and she was on the look out for the same. One day she found out that Pratham InfoTech Foundation had begun computer training in one of the halls in the building where she worked. She kept an eye on the students and the instructor there during her daily cleaning and mopping. And without delay got herself enrolled in the course and also completed it. She is now ‘e-literate’!

“The boy who teaches here is young and I treat him as my son. He taught me well. I liked the course. I had a great wish to learn computers that is why I did it. I was sick too during the course  but very determined to do it. I never do anything half heartedly”, says Jayashree.

When asked what she wanted to do after the course, she replied, “ I did not do this course in order to get a better job or something but just to satisfy my determination to learn something. But ofcourse I will continue to stay in touch”. Jayashree rushes home from work each day and practices typing and a little of what she learnt during the course.

Even though her hair has greyed over the years, her heart and mind are as young as they ever could be. Whenever she sees someone doing something that is new to her, she sets it as her goal and works towards it with all her might. Her ill health does not stop her either.

She wanted to ride a cycle and she did it. She later began cycling her way to work each day. Thus she is someone who doesn’t just learn things but also makes use of the skills learnt. Next she wanted to learn driving and she did that too just last year. “If you can, then why can’t I”? is her constant question!


 “I believe that we have come into this world for a purpose and we ought to fulfil it. I believe I was born to keep learning and I will continue to do it as long as I have breath in me. Learning how to use the computer makes me feel special and I can do anything I want just like all you youngsters”, says a very happy Jayashree.


Jayashree with her computer instructor, Lakhan

Wednesday, 14 October 2015

डिजिटल लिटरसी कोर्समुळे कॉम्प्युटरचे ज्ञान मिळाले. - मोहम्मद शेख

Mohammed Hafiz Sheikh

गांधीनगर चारकोप येथील रहिवासी आहे...मोहम्मद हाफिज शेख ! त्याने तोहीद शाळेतील केंद्रातून डिजिटल लिटरसी कोर्स पूर्ण केला. कोर्स पूर्ण झाल्यानंतर काही कालावधीसाठी त्याने क्लासमधील विद्यार्थ्यांना कॉम्प्युटरही शिकवले.

ग्राफिक्स डिझायनिंग आणि डी.टी.पी.विषयक कॉम्प्युटरचे शिक्षण अगोदर घेतले असूनही     मोहम्मदने डिजिटल लिटरसी कोर्ससाठी प्रवेश घेऊन तो पूर्ण केला. वर्ड,एक्सेल, पॉवर पॉईंट, इंटरनेट, इ. अभ्यासक्रम कोर्समध्ये शिकवण्यात आल्याचे  त्याने सांगितले.

मोल्डिंग मशीनवर  मोहम्मद काम करतो. डिजिटल लिटरसी कोर्सच्या आधीपासूनच तो नोकरीला होता. मोहम्मदचे शिक्षण दहावीपर्यंत झाले आहे. ‘ मला शेअर मार्केटमध्ये  आवड असून त्याबाबतची थोडीफार  माहिती आहे. त्या उद्देशाने मी कॉम्प्युटरचा  डिजिटल लिटरसी कोर्स शिकलो.’ असे मोहम्मदने म्हणतो.      


मोहम्मदला डिजिटल लिटरसी कोर्समुळे कॉम्प्युटरचे चांगले ज्ञान मिळाले. भविष्यात कॉम्प्युटरशी निगडीत नोकरी करण्याची मोहम्मदची इच्छा आहे. 

Tuesday, 13 October 2015

एअरपोर्ट मैनेजमेंट का ध्येय है – नमिता बेडेकर

Namita Bedekar

प्रथम वर्ष बीकॉम कर रही नमिता बेडेकर मलाड में स्थित स्किन केयर क्लिनिक में कार्य है. घर में माता- पिता और 3 बहनें हैं, पिता हीरों की पोलिशिंग का कार्य करतें हैं, बड़ी बहन टेलिकॉम सर्विस प्रोवाइडर के साथ कार्य करती है और खुद नमिता क्लिनिक में बतौर डॉक्टर की असिस्टेंट काम कर रहीं है. बहुत ही छोटी सी उम्र में नमिता ने कार्य करने का फैसला घर की परिस्तिथियों को देखते हुए लिया है. घर की जो भी वित्तीय परेशानियाँ थी उसमे वो अपने पिता और बहन का हाँथ बंटाना चाहती है.

हर किसी युवा के समान नमिता को भी कंप्यूटरों में काफी दिलचस्पी है, इसी के चलते नमिता ने प्रथम इंफोटेक फाउंडेशन और रोटरी क्लब द्वारा चलाये जा रहे कंप्यूटर कोर्स को पूरा किया है. इस कोर्स को पूरा करने के बाद ही नमिता को क्लिनिक में असिस्टेंट का जॉब मिल गया है जहाँ नमिता का कार्य कॉल पर अपॉइंटमेंट लेकर उन्हें निर्धारित समय पर क्लिनिक बुलवाना, फॉलोऑन कॉल्स करना और डेटाबेस बनाने का है. नमिता बताती है कि “जो भी कंप्यूटर क्लासेज में मैंने सीखा था उसमे से मैं एक्सेल का उपयोग ज्यादा करती हूँ, यहाँ मरीजों के इलाज के लिए जो भी डेटा बनाना होता है” इसके अलावा नमिता की टाइपिंग स्पीड काफी अच्छी हो गई है, पॉवरपॉइंट बनाना हो या कोई प्रोजेक्ट बनाना हो नमिता सिखाये गए सॉफ्टवेर की मदद से इन सभी कार्यों को अच्छे से कर सकती हैं.

नमिता जॉब और पढ़ाई को साथ- साथ करना चाहती है, और आने वाले कल की तैयारियों में जुटी हुई है. नमिता अभी प्रथम वर्ष की पढ़ाई कर रहीं है लेकिन उन्हें एअरपोर्ट मैनेजमेंट की ललक है. वो बताती है कि ऐसे कई कोर्सेज है जिसको करके वो एअरपोर्ट पर ग्राउंड स्टाफ का कार्य कर सकती हैं. उन्होंने अभी तक यह निश्चित नहीं किया है की वो कौन से डिपार्टमेंट से जुड़कर सर्विस करना चाहती हैं लेकिन एअरपोर्ट मैनेजमेंट उनका ध्येय है.

Monday, 12 October 2015

'Hard Work Makes It Easy'

Vaibhav Kelkar

Standard 10, for most Indian students, is an academically important year. There are numerous expectations riding on the shoulders of all those students appearing for their board examinations. Along with these expectations is an immense pressure to complete the year with flying colours. Many a times, students tend to break under this pressure. But then again, not very often, you do come across students who enjoy the entire process of studying. 

We were fortunate to meet one such student who has benefitted from our Student Enrichment Program (SEP) classes.

Vaibhav Kelkar, who stood 2nd amongst his peers, personifies the above mentioned quote. 

With a rather relaxed demeanour, Vaibhav seemed happy with having scored a respectable 61.40% in 10th. He recounts having joined the SEP classes when a volunteer had come around taking names of those who wished to join in. He joined while in the 9th standard, as he required help in Mathematics and English. He would come in to study as he was unable to study very well in his home environment and also because the classroom environment helped him focus on his studies.  The teachers with the SEP were a lot of help to Vaibhav in understanding the syllabus that he had to study.



When asked whether he was content with his 10th standard result, Vaibhav admitted that he was aiming for higher. “I was suffering from typhoid,” says he, almost trying to justify why he couldn’t achieve what he initially had set out. “Lekin theek hai, mummy aur papa dono khush hai,” he beams as he knows that he has made his parents proud.



Vaibhav now studies at Tulsidas Technical College in standard 11. He is currently pursuing a course in Building Management, one of the many vocational courses that were explained to the students by the teachers at our class. 
With regard to his future plans, he said that he’d like to become a Civil Engineer because “drawing accha lagta hai”. With enthusiasm and determination in his voice, the knowledge that the realization of his dream was not that far away was apparent in his attitude. 


Friday, 9 October 2015

भविष्यातील व्यावसायिक संधीसाठी डिजिटल लिटरसी कोर्स फायदेशीर ठरेल. - आरिफ शेख

  

Arif Sheikh

आरिफचे बारावीपर्यंत शिक्षण पूर्ण झाले आहे. घरी आई कौटुंबिक जबाबदारी सांभाळत असून  वडील  नोकरीला आहेत. ज्या शाळेत आरीफचे शिक्षण झाले, तिथे कॉम्प्युटर शिक्षणाची व्यवस्था नव्हती. त्यामुळे कॉम्प्युटरबाबत प्रॅक्टिकल माहिती आरिफला नव्हती.

डिजिटल लिटरसी कोर्समुळे (डी.एल.सी) कॉम्प्युटरचा इतिहास, सॉफ्टवेअर आणि हार्ड  वेअर आदींची वेगवेगळी आणि फायदेशीर माहिती मिळाली. वर्ड, एक्सेल, पॉवर पॉईंट, इंटरनेट, इत्यादीं संदर्भातील अभ्यास शिकायला मिळाला. आरिफचा आवडता विषय पॉवर पॉईंट प्रेझंटेशन. ‘क्लासमध्ये अभ्यासात काही अडचण आल्यास शिक्षक आवर्जून पुन्हा सांगत असे. तसेच मित्रांमध्ये शिकवलेल्या विषयांची एकमेकांमध्ये चर्चा होत असून ते  अभ्यासात मदत करत असत.’ असे आरिफ सांगतो.


मित्राच्या मदतीने आरिफला नोकरी मिळाली. कारमधील एअर कंडीशन (वातानुकूलित) दुरुस्तीचे काम आरिफ करतो. त्यात एअर कंडीशनमध्ये गॅस भरणे, मोटरची सर्विसिंग, एसीची सफाई करणे अशा विविध कामांचा समावेश असतो. अत्याधुनिक आणि वेगळ्या प्रकारच्या एअर कंडीशन कॉम्प्युटरच्या माध्यमातून काम केले जाते. त्यामध्ये आरिफला  डिजिटल लिटरसी कोर्समधील  कॉम्प्युटरच्या ज्ञानाची आवश्यकता लागेल, असे त्याला वाटते. आरिफची एअर कंडीशनर इंजिनिअर व्हायची इच्छा आहे. त्यासाठीचे शिक्षण तो पूर्ण करणार आहे.           

Thursday, 8 October 2015

थियोरी और प्रैक्टिकल में काफी अंतर होता है- दीप्ति शर्मा

Dipti Sharma

ऐसा माना जाता है कि शालाओं में बच्चों को भविष्य के लिए तैयार किया जाता है, लेकिन क्या कक्षाओं में सिखाया जाने वाले पाठ्यक्रम वास्तविक रूप में बच्चों को भविष्य के लिए तैयार कर रहा है? क्या कारण है की बच्चे पढ़ लिख कर भी कार्य को सही अंजाम तक नहीं पंहुचा पाते? जो तालीम हम बच्चों दे रहें है क्या वो कार्य (भविष्य) के लिए है या सिर्फ शालाओं या महाविद्यालयों में अच्छा प्रतिशत हासिल करने के लिए है? प्रथम इन्फोटेक फाउंडेशन के साथ देश की राजधानी दिल्ली एन.सी.आर के गुडगाँव में बतौर टीमलीडर कार्य कर रहीं दीप्ति शर्मा का भी यही मानना है. दीप्ति यूँ तो मूल रूप से आजमगढ़ की रहने वाली है लेकिन पिता के कार्य के चलते कई सालों से दिल्ली में ही रह रहीं हैं. माता- पिता और 4 बहनों वाले इस परिवार में, पिता निजी कंपनी में प्रभारी है और माँ भी निजी कंपनी में ही कार्य करतीं हैं, वहीँ दीप्ति की सभी बहनें अध्येता है.

दीप्ति ने जंतु शास्त्र (जूलॉजी) से अध्ययन पूरा किया है, इसके साथ ही कंप्यूटर में कार्य की गुंजाईशों को देखते हुए उन्होंने कंप्यूटर एप्लीकेशन में पी.जी और एम्.एस सी.आई.टी का प्रशिक्षण भी लिया है. साथ ही आनेवाले समय में वो स्नातकोत्तर उपाधि (मास्टर्स) प्राप्त करने का भी मन बना रहीं हैं. 2012 में प्रथम इन्फोटेक फाउंडेशन के साथ कार्य की शुरुआत करने वाली दीप्ति फिलहाल टीमलीडर के पद पर नियुक्त है. 3 सालों के अनुभव ने उनका दृष्टिकोण काफी हद तक बदल दिया है. कार्य क्षेत्र में व्यवहार से लेकर अन्य दूसरे कौशलों तक दीप्ति ने यहाँ बहुत कुछ सीखा है.

आज बतौर टीमलीडर वो 8 शालाओं में 10 संचारकों के साथ करीब 5 हज़ार बच्चों के बीच कार्य कर रहीं हैं. यहाँ दीप्ति की जिम्मेदारियों में शालाओं के प्रबंधकों के बीच प्रथम इन्फोटेक फाउंडेशन का प्रतिनिधित्व करने की है. इसके साथ ही कार्य से सम्बंधित नियोजन, शाला और संस्था के बीच अनुबंध तैयार करवाना, संचारकों (टीचर) की नियुक्ति पर ध्यान देना, नए और पुराने शिक्षकों का प्रशिक्षण करवाना, कार्य के हर पहलुओं पर निगरानी रखना. बच्चों को प्रशिक्षण का फायदा दिलवाना, प्री-टेस्ट और पोस्ट- टेस्ट लेना और बच्चों की उपस्थिति पर नज़र रखना उनकी जिम्मेदारियां है.

Dipti with her students

स्वभाव से स्पष्टवादी, इरादों से निडर दीप्ति जीवन में आगे बढ़ने के लिए अपने अनुभवों का सहारा लेती है. उनका मानना है कि “जीवन में कई तरह के लोग मिलते है, जिनसे अनगिनत बातें सीखने को मिलती है, फिर जब आप पढ़ाई कर जब बाहर निकलतें है तो आपका एक नया जीवन शुरू होता है तब जाकर इस बात का एहसास होता है कि जो कुछ भी सीखा है वो सिर्फ पास होने के लिए था, असली सबक तो पढ़ाई के बाद शुरू होता है.” “इसलिए मैं मानती हूँ कि हम जो भी शिक्षण बच्चों को प्रदान कर रहें है उनमे ऐसे कौशलों पर ध्यान दिया जाना चाहिए जो आनेवाले समय के लिए लोगों को तैयार कर सकें. पढ़ाई की अपनी एक जगह है लेकिन थ्योरी के साथ साथ बच्चों को प्रैक्टिकल ज्ञान देना भी अत्यंत आवश्यक है.”

इसके साथ ही दीप्ति बताती हैं कि अगर उन्हें जरुरत के आधार पर सहयोग और आर्थिक मदद मिली तो वो अपने गाँव आजमगढ़ में जा कर बच्चों के बीच काम करना चाहेंगी, वो चाहती है कि वहां के रहवासी भी खुद के पैरों पर खड़े हो सकें. आज़मगढ़ में पढ़ाई का स्तर उतना अच्छा नहीं है और न ही वहां के लोग पढ़ाई पर ज्यादा पैसा खर्चा करने की स्थिति में है ऐसे में बहुत कम लोग है जो वहां से शहर आकर पढ़ाई कर पाते है अगर उन्हें वहीँ पर अच्छी शिक्षा का मौका दिया जाए तो आने वाले समय में वो भी खुद को स्थापित देख सकेंगे.


इसके साथ ही वो समाज में फैली हुई कुछ कुरीतियों को भी जड़ से हटाना चाहतीं हैं, वो बताती है कि “आज भी गाँवों में लोग न चाहतें हुए भी कई ऐसी विधियों और रीतियों के शिकार बन जातें है जो गलत है. लेकिन क्योंकि समाज है और उनके साथ रहना है तो हमें उन सबका पालन करना होता है. मेरे गाँव में जो दहेज़ प्रथा चल रही है उस पर भी कुछ कार्य किया जाना चाहिए. आनेवाले समय में मैं एक स्वयं सेवी संस्था खोलना चाहतीं हूँ और लोगों को जीवन की सही राह दिखाना चाहतीं हूँ.”

Wednesday, 7 October 2015

I find it amusing that so many things happen by just a mouse click – Story of Samruddhi Chavan

Samruddhi Chavan

Currently studying in standard eight, Samruddhi had joined PIF’s IT training when in the fourth standard. She is happy that she has learnt a lot over the years. She is confident in MS Office, MS Paint, Corel Draw and Scratch. She likes MS Excel the most as she is fond of numbers and says that there is no other way best to play with numbers other than the Excel spreadsheet.” I love creating tables and playing with formulas. I love my computer class very much and find it amusing that so many things happen by just a mouse click”, says Samruddhi.

This young girl is very fond of Math and is very keen on taking it ahead as her career. She wants to take up commerce and some day work in a bank. “I want to learn computers as I love it and also it is seen everywhere these days especially in banks”, says she.

Samruddhi has many hobbies like singing and drawing. She always participates in competitions and has won many times. She got the first prize in the IT exhibition in her school. All the parents, teachers  and various corporate guests at the exhibition were amazed at her work."These exhibitions are important to let our parents know what we do in class and also for other younger students so that they know what all they can learn after joining the computer class”, says the clever girl.

Samruddhi goes on to say,"There are many parents who think that computers are not important. Such exhibitions will show them the importance of computers. Also so many parents cannot afford to pay fees to e educate their children, these parents can bring their children to these exhibitions and give them an exposure”. This is our bright, wise and mature little Samruddhi.


She believes that IT helps in opening a lot of options career wise and so every child should learn all they can about computers.  

Tuesday, 6 October 2015

जो हुआ, वह अच्छा हुआ | जो हो रहा है, वह अच्छा हो रहा है...- अनुराधा गुप्ता

Anuradha Gupta

‘ती’ स्वभावाने भावनाप्रधान.तिच्याशी संवाद करताना तिच्या कोमल उच्चारातील निरागसता  तिच्या बोलण्यात सहज जाणवते. सर्वांमध्ये मिळून-मिसळून  वागणारी. विश्लेषणात्मक क्षमता गवसलेली आणि हळू हळू नेतृत्व स्वीकारतानाही दिसलेली अशी... तिचा ‘अनु’करणीय पट उलगडताना  !   

भारताची राजधानी दिल्ली. दिल्लीतील मदनगीर विभागात वास्तव्य करत असणारी अनुराधा गुप्ता. तिचे वडिल शासकीय वैद्यकीय सेवेत डॉक्टर होते. अनुराधा तीन वर्षाची असताना तिच्या वडिलांचे देहावसान झाले.  आई, तीन बहिणी आणि  एक  भाऊ असा त्यांचा परिवार. आई  वडिलांच्या जागी वैद्यकीय विभागात नोकरीला लागली आणि तिने कुटुंबाचे पालनपोषण केले व सर्वांना  शिकवले आणि वाढवले...

अनुराधाच्या परिवारातील सर्वजण काकांसोबत ‘एकत्र कुटुंब पद्धती’मध्ये राहत. आई सकाळी नोकरी करायची आणि संध्याकाळी कामावरून आल्यावर सर्वांकडे लक्ष द्यायची. अनुराधा सर्वात लहान असल्याने बहिणी तिला हवं नको ते बघायच्या. तिचे शालेय शिक्षण चांगल्याप्रकारे झाले. अनुराधाने समाजशास्त्रातून (sociology) एम.ए. करुन  त्यानंतर  बी.एड.चे शिक्षण पूर्ण  केले.

अनुराधाचे लग्न हे अरेंज मॅरेज आहे. वृत्तपत्रातील विवाहविषयक जाहिरात पाहून अनुराधाच्या मावशीने संबंधितांशी संपर्क साधला. प्रदीप कुमारचे कुटुंब आणि नोकरीची अनुराधाच्या  नातेवाईकांना खात्री पटल्यानंतर लग्नाची बोलणी झाली आणि  विवाह संपन्न झाला.      

लग्नानंतर अनुराधाने नोकरी करण्याचा निर्णय घेतला. तिला सौमित्र स्वयंसेवी संस्थेत  पहिली नोकरी मिळाली. तिच्याकडे  डेटा एंट्रीच्या कामांची जबाबदारी असून पगार, बजेट, कन्सेप्ट नोट, इ. वेगवेगळ्या स्वरूपाचे काम होते. ती नोकरी अनुराधाने एक वर्ष केली. त्यानंतर भदोहीला एक्सिओ इंटरनॅशनल या एन.जी.ओ.मध्येही अनुराधाने ६ ते ७ महिने नोकरी केली. त्यामध्ये तिला   महिला सक्षमीकरण  क्षेत्रात काम करण्याची संधी मिळाली. कामात स्थिरता येत नसल्याचे अनुराधाला  जाणवले आणि  ती सासरी लखनऊला गेली. त्यानंतर ती दिल्लीला आली.

दिल्लीला आल्यानंतर अनुराधाने प्रथम इन्फोटेक फाउंडेशनमध्ये काम करण्यास सुरुवात केली. विद्यार्थी शाळेत योग्य पद्धतीने अभ्यास करतात का ते पाहणे आणि मुलांकडून  अॅक्टीविटी  करुन घेणे अशा स्वरुपाच्या  कामाने  अनुराधाची सुरुवात झाली. तिच्याकडे दिल्लीतील १७ शाळांच्या विद्यार्थ्यांची जबाबदारी होती. ‘काम करण्याची आवड आणि मुलांसोबतचा आनंद तिला जास्त समाधान देत होता’, असे अनुराधा सांगते.  अनुराधाचे काम पाहून तिला ‘टीम लिडर’ पदावर बढती देण्यात आली.  

अनुराधा टीम लिडर झाल्यावर तिला स्वत:वरच्या दायित्वाची जाणीव झाली. अनुराधा सांगते की, ‘गुडगाव येथे १० शाळांमध्ये आम्ही विद्यार्थ्यांची प्री-टेस्ट आणि पोस्ट टेस्ट   घेतो. विद्यार्थ्यांच्या अभ्यासावर लक्ष देतो. त्यांच्याकडून वेगवेगळ्या प्रकारच्या  अॅक्टीविटी घेतल्या जातात.  विद्यार्थी स्वत:चे संपूर्ण योगदान देऊन आनंदाने अॅक्टीविटीमध्ये सहभागी होतात आणि आनंदी राहतात, त्याचा फायदा विद्यार्थ्यांच्या गुण-कौशल्य आणि क्षमता वाढीवर होण्यास मदत होते. कॉम्प्युटरच्या अभ्यासक्रमाशी निगडीत गटा-गटांमध्ये स्पर्धाही आम्ही घेतो.’    

Anuradha in class

शाळेतील संचारकांच्या (कॉम्प्युटर शिक्षक) कामावर देखरेख ठेवणे, विद्यार्थ्यांचा अभ्यास योग्य पद्धतीने घेणे आणि काम वेळेवर पूर्ण करणे, संस्थेने आखून दिलेल्या शिक्षण पद्धतीच्या अंमलबजावणीवर लक्ष ठेवणे. विद्यार्थ्यांना समजून चांगल्या पद्धतीने शिकवण्याचा प्रयत्न अनुराधा आणि टीमचा असतो.  दिल्लीमध्ये शाळा दूरवर असल्यामुळे प्रवासाची समस्या भेडसावते, असे अनुराधा सांगते. 

 अनुराधा प्रथम इन्फोटेक फाउंडेशनमध्ये काम करताना घड्याळ पाहत नाही. घरची आणि मुलीची जबाबदारी असल्यामुळे जो वेळ अनुराधाला मिळतो, तो वेळ ती कामासाठी देण्याचा प्रयत्न करते. रात्रीचा दिवस करुन काम करण्याची पद्धत अनुराधाला योग्य पद्धतीने जमते.

अनुराधाला लहान मुलगी असल्याने कुटुंबाची जबाबदारीही तिच्यावर आहे. मुलगी लहान असल्याने काम आणि घरची जबाबदारी दोन्हीकडे तिला लक्ष द्यावे लागते. ‘अनुराधा आणि तिचे पती प्रदीप कुमार दोघेही प्रथम इन्फोटेक फाउंडेशनमध्ये काम करत असल्यामुळे संस्थेशी कौटुंबिक नातेसंबध निर्माण झाले आहे.  काम करतानाही कोणती अडचण उत्पन्न होत नाही.’ याचा उल्लेख अनुराधा आवर्जून करते.  रंगकाम, नृत्य, गायन,वाचन हे अनुराधाचे छंद आहेत. ती इंटरनेट आणि मोबाईलचा वापर  छंद जोपासण्यासाठी करते.

‘प्रथम इन्फोटेक  फाउंडेशनमध्ये मला विद्यार्थ्यांसोबत काम करण्याची संधी मिळाली आणि   नवीन गोष्टी शिकायला मिळाल्या. कॉम्प्युटरचे कौशल्य, समन्वय (को-ऑर्डीनेशन) क्षमता, एखादा मुद्दा विस्तृत सांगण्याचे कौशल्य, संभाषण कुशलता या गुणांचा विकास झाल्याचे अनुराधाला जाणवले. लोकांशी भेटून आणि चर्चा करुन माहिती मिळवण्याचा  नवीन मार्गही  तिला सापडल्याचे अनुराधा नमूद करते.  

जो हुआ, वह अच्छा हुआ, जो हो रहा है, वह अच्छा हो रहा है, जो होगा, वह भी अच्छा ही होगा। या गीतेच्या वचनानूसार अनुराधाच्या  आयुष्याचा प्रवास सुरु आहे...    

Monday, 5 October 2015

हेल्पिंग हैंड बनने की चाह - आयशा कुरैशी

Ayesha Qureshi

भारत की औसतन आबादी ग्रामीण क्षेत्रों से ताल्लुख रखती है और उसमें भी युवाओं की संख्या काफी ज्यादा मानी जाती है. ऐसे में भारत की सबसे बड़ी चुनौती उन लोगों को शिक्षा मोहैया करवाने की है जो अनेक कारणों से शिक्षा नहीं ग्रहण कर पा रहें हैं. जरा सोचिये अगर भारत का हर एक शख्स अच्छे से पढ़- लिख जाये तो यह देश क्या कुछ नहीं कर सकता है. बेशक कोशिशें जारी है कदम कदम पर कई लोग सर्व शिक्षा की मुहिम का हिस्सा बनते जा रहें हैं. इसी में जयपुर रहवासी आयशा कुरैशी भी शिक्षित भारत की जिद्द लिए आगे बढ़ती जा रहीं हैं. समृद्ध परिवार से ताल्लुख रखने वाली आयशा के घर में पिता चमड़े का व्यापार (लेदर इंडस्ट्री) करतें हैं, माँ गृहिणी है और आयशा को मिलाकर घर में चार बेहद बेटियाँ है. शिक्षा प्राप्त करते हुए आयशा ने कंप्यूटर एप्लीकेशन (डी.सी.ए) में डिप्लोमा के साथ- साथ अंग्रेजी साहित्य में एम्.ए की पदवी भी हासिल की है.

डी.सी.ए के प्रशिक्षण के दौरान आयशा को प्रथम इन्फोटेक फाउंडेशन में रिक्त पदों पर हो रही भर्ती की जानकारी मिली. आयशा शुरू से ही कंप्यूटर शिक्षा के क्षेत्र से जुड़ना चाहती थी. ऐसे में प्रथम इन्फोटेक फाउंडेशन द्वारा चलाये जा रहे कंप्यूटर प्रशिक्षण के लिए चुना जाना उनके ख्वाबों की ओर एक दस्तक थी. बतौर टीमलीडर उन्होंने यहाँ कार्य का आगाज़ किया, उनकी जवाबदारियों में शालाओं का संचालन करना, बच्चों हाजरी पर नज़र रखना, संचारकों (टीचर) से पढ़ाई का व्योरा लेना और उच्च अधिकारीयों तक हर व्योरे को ठीक तरह से पंहुचाना, शालाओं के प्रबंधकों से कार्य के प्रति पारदर्शिता रखना और शिक्षकों से लेकर बच्चों तक सब की रहनुमाई करना. शुरूआती दौर में जब आयशा ने प्रथम इन्फोटेक के साथ कार्य की शुरुआत की थी उस वक़्त वो 8 स्कूलों में 8 संचारकों के साथ 1,000 बच्चों के बीच कार्य कर रहीं थीं. दो सालों की मेहनत के बाद वो 10 स्कूलों जिसमे 10 संचारकों के साथ करीब 2,000 बच्चों को कंप्यूटर प्रशिक्षण देने का कार्य कर रहीं है.

आयशा बेहद तेजस्वी और प्रतिभवान है. इनदिनों बदलती शिक्षण पद्धति के आधार पर जिस तरह से शिक्षण अत्याधुनिक स्तर (एडवांस  लेवल) पर पंहुच गया है उससे देखते हुए आयशा भी खुद को निपुण करने की कोशिशों में जुटी रहती है. जिससे न केवल उनके निजी जीवन बल्कि जिन लोगों के साथ वो कार्य कर रहीं है उन्हें भी उससे फायदा दिलवाया जा सकें. आयशा बताती है कि “प्रथम इन्फोटेक फाउंडेशन के साथ जुड़ने से पहले भी मैं 8वीं तक के बच्चों को विज्ञान और सामाजिक ज्ञान पढ़ाने का कार्य करती थी. मुझे लगता है कि ज्यादा से ज्यादा बच्चों को एडवांस एजुकेशन दिया जाना चाहिए,  इसके लिए मैं किसी भी तरह की मदद के लिए तैयार हूँ फिर चाहे वो एडमिशन से जुडी हो या पढ़ाई से.” “फिलहाल जो कार्य मैं प्रथम इन्फोटेक फाउंडेशन के साथ कर रहीं हूँ वो एक सहायक का है, यहाँ भी मेरी कोशिश रहती है कि टीचर और बच्चों का सहायक बन कर कार्य कर सकूँ, और ज्यादा से ज्यादा बच्चों को कंप्यूटर प्रशिक्षण दे कर आगे बढ़ा सकूँ.”

मशहूर शिक्षाविद सैयद अहमद खान साहब को अपना आदर्श मानने वाली आयशा खुद भी उन्ही की दिखाई हुई राहों पर चल रहीं है. जिस तरह खान साहब ने समाज के लिए स्कूल खुलवाए, अच्छी तालीम के लिए हर मुमकिन कोशिशें की, दुनियावी ज्ञान के साथ- साथ दीनी शिक्षा दे कर लोगों को योग्य बनाया, ठीक इसी तरह आयशा का भी उद्देश्य है की वो कम्युनिटी के बच्चों के लिए हेल्पिंग हैंड बन सकें और इसी उद्देश्य का पीछा करते हुए उन्होंने हाल ही में “हेल्पिंग हैंड फाउंडेशन” के साथ स्वैच्छिक कार्य करने की शुरुआत की है, जिसमें वो आसपास रह रहे बच्चों को स्कूल तक पहुँचाने का काम करतीं हैं. ये वो बच्चें है जो किन्ही कारणों से पढ़ाई नहीं कर पा रहें है. उनका लक्ष्य है कि उनके इलाके का हर बच्चा शिक्षित हो, आने वाले समय में वो इस अभियान से बहुत बड़े स्तर पर जुड़कर कार्य करना और लोगों को शिक्षित होते देखना चाहतीं हैं.